मैं राजेश चढ्ढा सूरतगढ़ राजस्थान से आपका इस ब्लॉग पर स्वागत करता हूं । मेरे अन्य ब्लॉग भी आप देख सकते हैं- Rajesh Chaddha और Mera Radio. आपकी इनके बारे में राय अवश्य लिखें ।

Followers

मंगलवार, 8 जून 2010

सुविख्यात कवि 'शिवकुमार बटालवी' की स्मृति में राजेश चड्ढा द्वारा प्रस्तुत प्रोग्राम 'मिटटी दी खुशबू'


ऑडियो सुनने के लिए यहाँ प्ले करें

3 टिप्पणियाँ:

sahil choudhary ने कहा…

चेहरों की धूप आँखों की गहराई ले गया|
आईना सारे शहर की बीनाई ले गया|

डूबे हुए जहाज़ पे क्या तब्सरा करें,
ये हादसा तो सोच की गहराई ले गया|

हालाँकि बेज़ुबान था लेकिन अजीब था,
जो शख़्स मुझ से छीन के गोयाई ले गया|

इस वक़्त तो मैं घर से निकलने न पाऊँगा,
बस एक कमीज़ थी जो मेरा भाई ले गया|

झूठे क़सीदे लिखे गये उस की शान में,
जो मोतीयों से छीन के सच्चाई ले गया|

यादों की एक भीड़ मेरे साथ छोड़ कर,
क्या जाने वो कहाँ मेरी तन्हाई ले गया|

अब असद तुम्हारे लिये कुछ नहीं रहा,
गलियों के सारे संग तो सौदाई ले गया|

अब तो ख़ुद अपनी साँसें भी लगती हैं बोझ सी,
उमरों का देव सारी तवनाई ले गया|

rafat ने कहा…

shukriya behtreen post ke saath rubru karane ke liye mulaqaaten hoti rahengi.shukriya

Jassal Jasvinder ने कहा…

rajesh ji mai ramesh bahia ji ka student hu or apse bhi pilibangan me tarun sangh prog. me mila hu i like your voice and poems .......jassal jasvinder

एक टिप्पणी भेजें